Hot Masala Board - Free Indian Sex Stories & Indian Sex Videos. Nude Indian Actresses Pictures, Masala Movies, Indian Masala Videos


Go Back   Hot Masala Board - Free Indian Sex Stories & Indian Sex Videos. Nude Indian Actresses Pictures, Masala Movies, Indian Masala Videos > Hindi Sex Stories - Free Indian Sex Stories in Hindi Fonts !!!

Reply
 
Thread Tools Display Modes
  #1  
Old 06-04-2017, 10:54 AM
aamjayadakha aamjayadakha is offline
Senior Member
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 278,833
Default तान्त्रिक

मित्रों !! आपके द्वारा पास या फेल ???
अगली घटना रिजल्ट आउट होने के बाद.........
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #2  
Old 06-04-2017, 10:56 AM
rocki rocki is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,896
Default तान्त्रिक

आज की बात में कामख्या ( असम ) से प्रारम्भ करता हूँ ! मैं नितान्त अकेला ब्रह्मपुत्र के किनारे बेठा था ! साँझ की काली कालिमा अब रात्रि के गहरे अंधकार में बदल चुकी थी ! नभ में झिलमिलाते हुए सितारों की परछाई ब्रह्मपुत्र के अथाह जल में पड़ रही थी ! चारों और मौत का सा सन्नाटा पसरा हुआ था ! सिर घुमा कर देखता हूँ तो पाता हूँ ब्रह्मपुत्र के किनारे से सभी लोग धीरे – धीरे जा चुके हैं ! मेरे से कुछ दूर लालटेन की पीली रौशनी थिरक रही थी – दूर हाथों में एक लम्बी सी चिलम थामे कोई नाविक संभवत: गांजा पी रहा था ! सहसा अँधेरे में मेरे सामने एक छाया उभरती
है ! वह छाया शने: - शने: आगे बडती
है और ठीक मेरे सामने आकर खड़ी हो जाती है ! इसके पश्चात उसका गंभीर सा लेकिन महीन स्वर सुनाई पड़ता है, कुशोक तुम ? यहाँ कैसे ? मैं तुरन्त आवाज़ पहचान जाता हूँ ! वह भैरवी
टोना की आवाज़ थी ! बहुत दिनों से
उससे मेरा परिचय है ! एक बार वह
मेरे और मिन्ही के साथ हिमालय की
यात्रा पर भी जा चुकी है ! वो समतल
ज़मीन पर मेरे पास बेठ जाती है और
पूछने लगती है – क्या चिन्तन –
मनन हो रहा है इस एकांत में ? मैं
विषय बदल देता हूँ ! मेरी बात सुनकर
टोना कुछ समय मौन रहती है और
फिर बोल उठती है – अश्रद्धा
अच्छी वस्तु नहीं है , कुशोक ! मन
को विश्वास योग्य बनाकर विचारों
से रिक्त रखा जा सकता है , लेकिन
अधिक समय तक शून्य की स्थिती
में रहना सम्भव नहीं है ! संकट आते हैं
, संकटों का और समस्त कष्टों का
सामना करना होता है उस समय !
जिस साधक के जीवन में कोई
स्थायी सिद्धांत नहीं है , वह बिना
पतवार की नाव की तरह है ! उसकी
अवस्था उस कटी पर्तंग की तरह हो
जाती है , जिसकी डोर नीचे से कट
गयी है ! टोना ने मुझे बतलाया यह
वही स्थल है , जिसकी एक अच्छे
साधक को आवश्यकता होती है ! मैंने
टोना से कहा – जिस साधक ने तंत्र
के मूल सिद्धांतों को स्वीकार किया
है , उसके ही ह्रदय से सत्य की
टंकार निकलती ही है ! जिसको
सुनकर विश्वास स्वयं जाग्रत होता
है ! अब रही कष्ट की बात तो मनस्वी
तांत्रिक केवल कर्तव्य का पालन
करते हैं , सुख – दुःख को नहीं देखते !
तंत्र बहुजन हिताय बहुजन सुखाय है
सदैव सत्य का सन्देश सुनाता है !
उसका जनहिताय चरित्र ही तंत्र का
बल है ! नहीं ऐसी बात मैंने बिलकुल
नहीं कही है – टोना ने कहा ! रात
संभवत: अधिक हो गयी थी ! टोना
उठकर खड़ी हो गयी ! उसके साथ
मुझे भी विवश होकर उठना पड़ा !
मुख्य मार्ग पर आकर मैंने धीरे से
पूछा – गोहाटी में तुम कहाँ ठहरी हो ?
क्या मैं तुमसे पुन: मिल सकता हूँ ?
अवश्य क्यों नहीं ? आप कल ही
प्रात: आ सकते हो ! मैंने पूछा कहाँ ?
टोना ने मुस्करा कर कहा – कुशोक
जहाँ कोई आता – जाता नहीं ! मैं
समझ गया कि टोना मुझे शमशान में
मिलने को कह रही है ! उसका संकेत
इसी और था ! टोना के चले जाने पर
मैं फिर वहीँ आकर बेठ गया ! संभवत
: टोना जानती थी कि वास्तव में
शमशान के प्रति तंत्र के क्षेत्र में
आने के बाद मेरा मोह कुछ अधिक ही
हो गया था ! शमशान के प्रबल
आकर्षण और मोह के कारण मैं
प्राय: शमशान की और खिंचा चला
आता था ! इस मोह के पीछे और इस
आकर्षण के पीछे मेरे पूर्वजन्म का
कौन सा संस्कार है ? यह तो मैं नहीं
बतला सकता हूँ की घोर शून्य में
आकण्ठ डूबे शमशान में मुझे उस
सत्य का दर्शन हुआ है – जिसने मेरे
सम्पूर्ण जीवन को आमूल चूल
परिवर्तित कर दिया - एकबारगी !
कहने की आवश्यकता नहीं , उसी
परिवर्तन के परिणाम स्वरुप आज
मेरे लिए यह सारा संसार सत्य हो
गया है और मैं हो गया हूँ संसार के
लिए अलग नितान्त अकेला ! रात के
विकट अंधकार में घन्टों अकेला बेठा
रहता हूँ मौन साधे ! अचानक टन –
टन कर बारह का घंटा बजा ! मैं उठकर
खड़ा हो गया और आँखें गडा गडा कर
दूर तक फैले अंधकार को चीरकर
देखने का असफल प्रयत्न करने
लगा कि अचानक ..............?
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #3  
Old 06-04-2017, 10:56 AM
kaamdev kaamdev is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 220,308
Default तान्त्रिक

साथियों ! मेरे भीतर पूर्ण
बिन्दु को शुद्ध करने वाली क्रिया
को जानने और समझने की इच्छा
प्रबल होने लगी थी ! मैं यहाँ यह बात
स्पष्ट कर देना चाहता हूँ , बिन्दु
शोधन के पीछे कामेच्छा बिल्कुल
नहीं थी ! मैं बिन्दु शोधन की इस
क्रिया को केवल ज्ञान की इच्छा से
जानना चाह रहा था ! मैंने जब से इस
तंत्र मार्ग में कदम रखा था तब ही से
तंत्र की गोपनीय जानकारी प्राप्त
करने की इच्छा सदैव से प्रबल रही
थी ! तांत्रिक बिन्दु शोधन मेरे लिए
सर्वथा नया विषय था ! अत: इसको
जानने और समझने की इच्छा
स्वाभाविक ही थी ! मिन्ही और मैं
पद्मा नदी के तट पर बेठे गहन
वार्तालाप में मगन थे ! मिन्ही बार –
बार अपने अस्त – व्यस्त बालों को
ठीक करते हुए निरन्तर बोले जा रही
थी ! कुशोक ! आज मैं तुमको तंत्र का
एक गूढ़ पक्ष बतलाउंगी ! साधक की
सारी वासनाओं अथवा मूल
प्रवर्तिओं पर अगर गहराई से
विचार किया जाये तो उन सबको तीन
मुख्य भागों में विभक्त किया जा
सकता है – वित्तेषणा – दारेषणा –
और लोकेषणा ! इन तीनो में दारेषणा
ही प्रमुख है ! क्योंकि दारेषणा का
सार आकर्षण है और आकर्षण
साधक – साधिका , भैरव – भैरवी की
संयुति में फलता फूलता है ! यह
आकर्षण मिथुनजन्य है ! तंत्र मार्ग
में जिसे आदिशक्ति कहा गया है –
उसका मूल स्वरुप काम है ! काम
अर्थात सहचर की इच्छा ! वह
सहचर स्त्री या पुरुष होता है !
साधक की जितनी भी प्रवर्तिया हैं
उन सभी का लक्षण एकमात्र आनंद
प्राप्त करना है ! आनन्द सभी
कामना और वासना का प्राण है !
कुशोक ! मैं अपनी बात और अधिक
स्पष्ट करती हूँ ! हम जब प्रथ्वी पर
गिरते हैं और जब उठना होता है तो
प्रथ्वी का सहारा लेकर ही उठते हैं !
जो वस्तु गिराने वाली होती है वही
उठाने वाली भी सिद्ध होती है ! बाहरी
विषयों के भोग द्वारा तृप्त होने के
पश्चात ही साधक – साधक बन
सकता है ! भोतिक विषयों का अनुभव
चाहे वह साधक हो या साधिका
व्यवहारिक अनुभव आवश्यक है ,
लेकिन भोग के रूप में नहीं साधन के
रूप में !
मैं तंत्र भैरवी मिन्ही की एक एक बात
को बड़े ही ध्यान से ना केवल सुन
रहा था वरन उन बातों को ह्रदय में
भी धारण कर रहा था ! मैंने पुन:
जिज्ञासावश पूछा – मिन्ही मैं कुछ
समझा नहीं ! मेरा उद्देश्य था की
मिन्ही मुझे और स्पष्ट तरीके से
समझाए , ताकि कोई संशय ना रहे !
मतलब स्पष्ट है – मिन्ही अपनी
गोल गोल आँखें मिचमिचाते हुई
बोली ! यह अखिल विश्व वासना
और उस विश्ववासना की मूर्ती
स्त्री अर्थात भैरवी का सहारा
लेकर ही बिन्दु साधना की यात्रा
प्रारम्भ करता है ! साधना की
मूलभित्ति यही दोनों हैं ! तांत्रिक
बिन्दु साधना की पहली यात्रा की
चर्चा अब तक जो मैंने करी है ! वह
यही है ! मिन्ही की बात सुनकर मुझे
ऐसा अनुभव हो रहा था की मैं तंत्र
की भूलभुलईया में ना उलझ कर
सुलझता जा रहा हूँ ! मैं तंत्र भैरवी
मिन्ही के अद्भुत ज्ञान से बेतरह
प्रभावित था ! मिन्ही ने अचानक
मुझसे पूछा – क्या तुम थक नहीं गए
हो ? मैंने एक सधे हुए साधक की तरह
उत्तर दिया – नहीं मिन्हीं बिलकुल
नहीं ! मैं भला क्यों थकता ? मुझे उस
अद्भुत तंत्र ज्ञान में आनन्द जो आ
रहा था ! मिन्ही पुन: बोली – ठीक है
चलो पहले कुछ खा लेते हैं ! हम पुन:
मठ की और चल पडे ! तंत्र ज्ञान
प्राप्त करने का यह मेरा छटा दिन
था ! बस ज्ञान पूर्ण होने में अब एक
ही दिन शेष था ! मठ में आकर मिन्ही
भोजन की व्यवस्था के लिए भीतर
चली गयी ! अब कक्ष में मैं बिलकुल
अकेला था ! मेरे मस्तिस्क के पटल
पर अंकित कुछ धुंधली यादें स्पष्ट
होने लगीं ! मैं धीरे – धीरे पुरानी यादों
में डूबने उभरने लगा !
आज से लगभग 20 वर्ष पूर्व मैं
कामख्या की यात्रा पर आसाम गया
था ! वहां मुझे एक विलक्षण
शक्तियों के स्वामी अघोरी मिले !
निश्चय ही उच्चकोटि के अघोरी थे
वह ! नाम था शिव अघोरी ! प्राय:
नित्य उनसे भेंट होती थी ! एक दिन
तंत्र और अघोर विद्या पर चर्चा
होने लगी ! इस पर शिव अघोरी ने
कहा – सच्चा अघोरी तो वह है ,
जिसमे प्रतिकूल अवस्थाओं में भी
निराशा का जन्म ना हो ! तात्पर्य
यह है कि भोगने योग्य पदार्थ के
प्रति किसी भी रूप में लगाव या
आकर्षण ना हो ! सच्चा अघोरी कभी
दूसरे को नहीं परखता वरन स्वयं को
प्रत्येक कसोटी पर कसता है ! आज
का प्राणी स्वयं को तो कभी नहीं
परखता अवसर मिलते ही दूसरे को
परखना प्रारम्भ कर देता है ! यह
लक्षण समर्पित साधक , अघोरी या
तांत्रिक के नहीं हैं ! अपने
साधनात्मक जीवन में प्रत्येक
साधक को महाडामरी पथ पर चलना
होता है ! मैंने पूछा – यह महाडामरी
पथ कौनसा है ? शिव अघोरी बोले –
यह महाडामरी पथ ....
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #4  
Old 06-04-2017, 10:57 AM
goldfish goldfish is offline
Senior Member
 
Join Date: Dec 2007
Posts: 279,399
Default तान्त्रिक

अचानक हमारी
द्रष्टि सामने की ओर गयी देखा एक
अत्यंत काला , भयानक शक्ल सूरत
वाला एक व्यक्ति सामने खड़ा था !
उसके एक हाथ में देसी मदिरा की एक
बोतल और दूसरे हाथ में भुना हुआ
मांस था ! मांस की असहनीय
दुर्गन्ध मेरे नथुनों तक आ रही थी !
घ्रणा से मैंने मुहं फेर लिया ! तंत्र
भैरवी तारा ने संभवत: मेरे भाव समझ
लिए थे ! वह बड़े ही प्यार से समझाने
वाले अंदाज़ में बोली – तुम एक
साधक हो , तुम्हारे लिए इतनी घ्रणा
उचित नहीं है ! जी ! मेरी शेष आवाज़
कंठ में ही दब कर रह गयी ! वह काला
सा व्यक्ति भैरवी तारा के समीप
आया और सामग्री भैरवी तारा के
सामने रख दी ! अमावस की काली
रात , ऊपर से बादलों का और झींगुरों
का शोर ,वातावरण को और भी
भयानक बना रहा था ! तंत्र भैरवी
तारा ने एक बार और स्थान को
स्वच्छ किया ! साथ में लायी पाषाण
की दक्षिण काली की मूर्ती को भी
ताज़े पानी से स्वच्छ किया और
मदिरा का भोग लगाया ! प्रेत मुक्ति
अनुष्ठान में लगने वाली सारी वस्तुएं
दक्षिण काली की प्रतिमा के
समक्ष करीने से सजा दी ! भुने हुए
मांस को भी एक कागज़ पर रख दिया
गया ! तंत्र भैरवी तारा अब तांत्रिक
अनुष्ठान के लिए पूरी तरह तैयार
थी ! अब कुछ ही क्षण में तांत्रिक
अनुष्ठान प्रारम्भ होने वाला ही था !
मैं दक्षिण काली के भयानक रूप से
पहले ही परिचित था ! लेकिन मुझे इस
बात का भय था कि कहीं दक्षिण
काली या कोई अन्य अशांत आत्मा
कोई नया उपद्रव ना खड़ा करदे !
अगर ऐसा कुछ हुआ तब तो हम सब
लोग निश्चय ही किसी भयानक
विपत्ति में पड़ जायेंगे ! मैंने साहस
करके तंत्र भैरवी तारा से कहा – यह
पाषाणी दक्षिण काली या कोई
अन्य अशान्त आत्मा किसी प्रकार
का उपद्रव ना करे , इसके लिए
आपको ही कुछ करना होगा ! मेरी
बात सुनकर तंत्र भैरवी तारा मौन ही
रही ! मौनं स्वीकृति लक्षणम –
समझ कर हम सब चुप चाप बैठ गए !
भैरवी तारा बड़े ही परिश्रम के साथ
तैयारी में लगी थी !
निश्चित समय आने पर भैरवी तारा
ने मन्त्र बोलने प्रारम्भ कर दिए !
इसके साथ ही पूजा का उपक्रम भी
कर रही थी ! सर्वप्रथम सभी
सामग्रियों पर कामिया सिन्दूर का
तिलक लगाया गया और कन्ठ में
लाल गुलाब के पुष्पों की माला
पहनायी गयी और अंत में देसी मदिरा
की भेंट दी गयी ! इसके पश्चात खड्ग
की पूजा हुई ! अंत में तंत्रोक्त हवन
प्रारम्भ हुआ ! धधकते हुए हवन
कुण्ड , उसमे पढने वाली भिन्न –
भिन्न प्रकार की वस्तुओं की तेज़
गन्ध और दिव्य तांत्रिक मन्त्रों का
गंभीर उद्घोष से वीराने में एक
भयप्रद वातावरण की स्रष्टि हो
गयी ! हवन सम्पूर्ण हुआ ! तंत्र
भैरवी तारा ने माँ दक्षिण काली की
पूजा शुद्ध तांत्रिक विधि से की !
पूजा सम्पूर्ण होते ही माँ , महामाया
पराशक्ति पाषाणी दक्षिण काली
की उस पाषाण की प्रतिमा में एक
अलोकिक अनिवर्चनीय तेज़ आ
गया ! दपदप कर जलने लगा माँ
दक्षिण काली का मुख मंडल ! उसी
के साथ वीराने का वातावरण भी
रहस्यमय और बोझिल हो उठा
एकबारगी ! तंत्र भैरवी तारा का
संकेत पाकर मैंने भुना हुआ मांस माँ के
समक्ष लाकर रख दिया ! जान जाने
की आशंका से मेरे मुख मण्डल पर
करुणा बिखर गयी ! मैं ऊपर से पूरी
तरह निर्भय दिखने का प्रयत्न कर
रहा था , लेकिन ह्रदय के किसी कोने
में भय ने अपना स्थान बलपूर्वक
बना लिया था ! फिर सोचा जब तंत्र
भैरवी तारा है तो फिर किस बात की
चिन्ता ? और कैसा भय ? इसके
पश्चात मैं तन कर बेठ गया !
तंत्र भैरवी तारा अब जोर जोर से
मन्त्र बोल रही थी ! हमे केवल ॐ
फट की ध्वनि ही स्पष्ट सुनाई दे रही
थी ! उसी समय हमारे देखते देखते
तंत्र भैरवी तारा ने चमकता हुआ
खडग उठा लिया , दूसरे ही पल ख़च
की आवाज़ हुई और साथ ही एक
बेहद दर्दनाक चीख भी सुनाई दी !
मैंने हलके प्रकाश में देखा भैरवी तारा
की अंगुली से रक्त धाराप्रवाह बह
रहा था ! काफी दूर तक वीराने का
कचचा समतल फर्श लाल हो उठा !
भैरवी तारा ने मेरी ओर पुन: संकेत
करा मैंने तुरन्त भुने मांस पर देसी
कपूर रख कर जला दिया ! जलते
कपूर के प्रकाश में वीराना दूर दूर
तक चमक उठा ! मैंने तंत्र भैरवी तारा
की और देखा , उसके मुख पर पीड़ा के
भाव स्पष्ट थे ! वह लाख रोकने के
पश्चात भी बार – बार कराह उठती
थी ! भैरवी तारा ने माँ दक्षिण काली
की प्रतिमा को प्रणाम किया और
कुछ अस्पष्ट शब्दों में बारबार
बुदबुदायी ! इसके उपरांत भैरवी तारा
करहाते हुए बोली – अब सब ठीक हो
जायेगा ! माँ ने अपनी बलि स्वीकार
कर ली है ! सब कुछ ठीक हो जाने के
पश्चात भी मुझे कुछ ऐसा अनुभव हो
रहा था कि अभी भी कुछ कहीं गलत
है ! अचानक भैरवी तारा ने अपना
हाथ सामने की और उठा दिया ! हमने
जो देखा वह .......
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #5  
Old 06-04-2017, 10:57 AM
aamjayadakha aamjayadakha is offline
Senior Member
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 278,833
Default तान्त्रिक

अदभुद, अतिसुन्दर व्याख्या।
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #6  
Old 06-04-2017, 10:58 AM
desiman7 desiman7 is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,478
Default तान्त्रिक

मित्रों !!!
प्रस्तुत है तंत्र पर आधारित एक और सूत्र !! यहाँ प्रस्तुत की गई घटनाएं एक ऐसे तांत्रिक के जीवन में घटी हैं जो औघड़ न होकर एक सात्विक तांत्रिक है !
तो पढ़ें एक सात्विक तांत्रिक के कारनामे और अपनी अमूल्य राय अवश्य दें !
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #7  
Old 06-04-2017, 10:58 AM
desiman7 desiman7 is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,478
Default तान्त्रिक

धीरे – धीरे अपने
सामने रखता चला जा रहा था ! सबसे
पहले अघोरी बाबा ने देसी मदिरा की
बोतल अपने सामने रखी , इसके बाद
उसने रक्तरंजित कलेजी को अपने
सामने रक्षा , अगरबत्ती जलाने का
मुझे निर्देश दिया , अंत में अघोरी
बाबा ने कामिया सिन्दूर ज़मीन पर
फैला दिया अंत में एक मोम की
गुड़िया निकालकर ठीक अपने सामने
खड़ी करदी ! इसके पश्चात अघोरी
बाबा ने हम सब के चारों और अपनी
अंगुली से वृत बनाया ! मैं जानता था
यह विधान सुरक्षा हेतु करना अति
आवश्यक होता है ! दीप , अगरबत्ती
जला दिए गए ! हम सब अघोरी बाबा
की प्रत्येक क्रिया को बड़ी ही
जिज्ञासा से देख रहे थे ! मैंने तंत्र
भैरवी तारा को हिलाते हुए कहा –
बड़ी ही रोमांचक तंत्र की क्रिया है !
तंत्र भैरवी तारा ने मुंह बिचकाते हुए
कहा – कोई रोमांचक वोमान्चक तंत्र
क्रिया नहीं है ! यह सब तो तंत्र
साधना के समय होता ही है ! मैंने तंत्र
भैरवी तारा को आश्चर्य से देखा
और मुंह फेर लिया !
रात गहरा गयी थी ! चौथ का चाँद
पहाड़ी के पीछे छिप गया था ! उस
वीरान समतल मैदान में और अधिक
नीरवता गहरा गयी थी ! अघोरी बाबा
ने शून्य में ताकते हुए कहा – आज
कुछ ना कुछ विचित्र होकर ही
रहेगा ! मैं इस तंत्र के क्षेत्र में अभी
नया था , सो भीतर तक कांप गया !
मेरी यह स्थिती तंत्र भैरवी तारा से
छुपी नहीं रही ! उसने एक बार फिर
मेरा हाथ जोर से दबा दिया , संभवत:
यह उसका आश्वासन था – भयभीत
मत हो ! मैं हूँ ना ? मैं आश्वस्त हो
गया ! उस निर्जन समतल वीराने
और काले आकाश के नीचे मैंने गहरी
श्वास छोड़ी ! बाहर हाहाकार करती
आवारा पवन वीराने की झाड़ियों और
झुरमटो को कंपाये दे रही थी ! सहसा
श्यामल आकाश में जलती हुई
बिजली दूर तक चमक उठी ! सारा
वीराना एक पल के लिए बिजली के
तेज़ तेज़ प्रकाश से चमक उठा ! उसी
पल उस क्षणिक प्रकाश में मैंने
देखा – वह अघोरी बाबा प्रथ्वी पर
रखे सामान पर झुका हुआ है ! सहसा
उसकी आवाज़ उस शांत वातावरण में
पुन: गूंजी – आज कुछ ना कुछ
विचित्र होकर ही रहेगा ! निश्चय ही
आज महाकाल मेरी साधना में , मेरी
सहायता करेंगे ! सुनो ! जब मैं जैसा
कहूँ वैसा ही करियेगा आप सभी ! हाँ
हम समझ गए – हम सबने मिला जुला
उत्तर दिया !
अघोरी बाबा अब उस सामान के
ऊपर व्रत के भीतर आसन लगा कर
बेठा था ! वह एकाग्रचित होकर
किसी विचित्र तांत्रिक मन्त्र का
जाप कर रहे थे ! सहसा उस वीरान
मैदान में पीपल के पेड़ पर चोंच
रगड़ता कोई पक्षी कर्कश स्वर में
चीख उठा ! अघोरी बाबा ने पहले ही
तंत्र भैरवी तारा को सारी बातें
समझा दी थीं ! उसने तुरंत तेल के
पांच दीपक जलाकर अघोरी बाबा के
चारों ओर रख दिए ! फिर कलेजी और
देसी मदिरा से भरी बोतल भी सामने
रख दी ! अघोरी बाबा ने थोडा सा
मांस पक्षी की और उछाल दिया ,
बोतल से थोड़ी सी मदिरा लेकर अपने
सामने उछाल दी ! अगले ही पल पूरा
वातावरण एक अजीब से कानफाडू
कोलाहल से भर गया ! तंत्र भैरवी
तारा को छोड़कर हम सब जोर – जोर
से कांपने लगे ! ऐसा अनुभव हुआ जैसे
कोई अद्रश्य शक्ति अगले ही पल
हम सब पर आक्रमण कर देगी ! मेरा
अनुमान सत्य निकला ! किसी
अज्ञात शक्ति ने अघोरी बाबा को
जोर से धक्का दिया ! अघोरी बाबा
को धक्का लगते देख मेरी चेतना
लुप्त होने लगी ! मैं सोच रहा था जब
अघोरी बाबा का यह हाल है तो हमारी
तो माँ शक्ति जाने ! उस निविड़ गीली
काली रात में यह विचित्र स्थिती
देखकर मेरी चेतना लुप्त होने लगी !
तंत्र भैरवी मिन्ही और वो अघोरी
साथ है यह सोचकर मैं स्वयं को
संभाले रहा ! तेज़ हवा से कांपते
दीपक के धीमे प्रकाश में मैंने देखा –
उस वीरान वातावरण में कुछ
अस्पष्ट आक्रतियाँ आस – पास
घूम रही हैं ! बिलकुल सजीव और
चैतन्य ! मैं उन मानव जैसी परछाईयों
को चाहकर भी पहचान नहीं पा रहा
था ! एक तो अमावस की रात , दूसरे
घोर वर्षा तीसरे दीपक का प्रकाश
मध्यम था , भला पहचानता तो भी
कैसे ? तेज़ हवा से कांपते दीपक के
मन्द प्रकाश में मैंने देखा – वहां एक
अस्पष्ट सी नवयुवती खड़ी है ! वह
अपनी बड़ी – बड़ी , मोटी – मोटी
आँखों से ....
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #8  
Old 06-04-2017, 10:58 AM
lamboo lamboo is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 220,309
Default तान्त्रिक

मित्रों ! अचानक मेरी निगाह सामने
खड़ी विचित्र आकृति पर पड़ी ! वह
लाल रंग का लबादा पहिने थी ! वह
आकृति आँखें बंद किये माला के मनके
फेर रही थी ! संभवत: वह ध्यान में
थी ! अचानक उसने आँखें खोली और
अपनी जलती हुई आँखों से मुझे घूरा
और इसके बाद गर्दन उठाकर
आकाश की और देखने लगा ! आकाश
में धीरे – धीरे कुहरा छटने लगा था
और सूरज की सुनेहरी किरने धरती
को चूमने लगी थीं ! ना जाने क्या
सोचकर मैं उस विचित्र आकृति के
सामने जाकर खड़ा हो गया ! संभवत:
उसे भी मेरी उपस्थिती का पूर्व
अनुभव हो गया था ! माला के मनके
घुमाना बंद कर मेरी और घूर कर
देखा ! उसका अपनी मिचमिचाती
आँखों से मुझे इस प्रकार घूर कर
देखना कुछ अच्छा नहीं लगा , लेकिन
उसके कुछ बोलने से पहले ही अपना
परिचय देते हुए अपने आने का
उद्देश्य भी उसको बतला दिया !
कुछ समय मौन रहने के पश्चात एक
झटके से उसने कहा - – यहाँ आकर
तुमने अच्छा ही किया ! क्यों ? मैंने
उत्सुकता से पूछा ! तुम साधक हो
और तंत्र – मन्त्र साधना के लिए
यह स्थान अतिउत्तम है ! क्या तुम
मुझे कुछ तंत्र – मन्त्र के विषय में
बतलाओगे ? जरूर , लेकिन उसके
लिए तुम्हे मेरे आश्रम तक आना
होगा ! मैं अवश्य आऊंगा – मैंने पूरे
विश्वास के साथ कहा ! लेकिन
आपका आश्रम कहाँ है ? मेरा
आश्रम ऐसे स्थान पर है जहाँ भारत
, तिब्बत और भूटान की सीमा रेखाएं
आकर एक दूसरे से मिलती हैं ! वहां
तक पंहुचने के लिए तेजपुर से एक
पहाड़ी सड़क गयी है ! वह सड़क
काफी लम्बी और पथरीली है , और
हाँ ऊबड़ – खाबड़ भी है ! तेजपुर और
मेरे आश्रम के मध्य एक भयानक
दर्रा भी है , जिसका नाम , छोडो नाम
को ! तुम केवल तेजपुर तक आ जाओ
वहां से मेरे शिष्य तुम्हें आश्रम तक
ले आयेंगे ! इसके पश्चात उस
आकृति ने हाथ में फंसी माला को
लबादे की भारी जेब में रखते हुए कहा
– तो फिर ठीक है मैं आश्रम में
तुम्हारी प्रतीक्षा करूँगा ! इतना
कहकर वह अपने लम्बे डगों से
समतल मैदान को नापता हुआ , धीरे
– धीरे मेरी आँखों से ओझल हो गया !
मैं भी वहां से चलकर अपने निवास
स्थान पान बाज़ार आ गया ! पूरी रात
विश्राम करने के बाद प्रात: काल
होते ही अपनी यात्रा की तैयारी
प्रारम्भ करदी ! सांय होने से पहले
ही मैंने होटल का कमरा छोड़ दिया !
पूरे बीस दिन की लम्बी और थकाऊ
यात्रा के पश्चात आश्रम में पंहुच
गया ! वह एक विशाल मठ था ! नभ में
छाये हुए बादलों की भूरी परतों के
मध्य वह मठ मुझे एक बहुत बड़े काले
धब्बे जैसा लगा ! आश्रम के खुले
स्थान पर वर्षा की छोटी – छोटी
बूँदें गिर रही थीं ! एक गहरी
निस्तब्धता छाई हुई थी वातावरण
में ! उस दिव्य शांति में ऐसा अनुभव
हुआ मानो मेरे सम्पूर्ण जीवन की
गति एकाएक धीमी पड़ गयी हो और
मेरा सम्पूर्ण अस्तित्व भी
एकबारगी ठहर गया हो ! काफी समय
तक अपलक निहारता रहा मैं आकाश
में मठ के उस काले धब्बे को ! किसी
अपरिचित की आवाज़ सुनकर
अचानक मेरी तन्द्रा टूट गयी ! पलट
कर देखा तो वहां एक सेवक खड़ा
था ! उसके ताम्बे जैसे रंग के मुख पर
अजीब सी शांति और तेज था ! वह
मेरी और गौर से देख रहा था !
अचानक उसकी आवाज़ गूंजी – आप
कौन है ? और कहाँ से आये हैं ? उस
विचित्र आकृति का विवरण देकर मैंने
उनके दर्शन की इच्छा व्यक्त करी ,
तो वह सेवक नुमा साधक कुछ समय
तक मेरी और देखता रहा और फिर
अपने पीछे आने का संकेत कर आगे –
आगे चल पड़ा ! उस दिन शरद
पूर्णिमा थी ! धवल चन्द्रमा की
रुपहली चांदनी आश्रम की प्रथ्वी
पर बिखरी हुई थी , और दिनों से
अधिक गहरी निस्तब्धता छाई हुई
थी वातावरण में ! चारों और सांय –
सांय हो रहा था ! मैं गालों पर हाथ धरे
चुपचाप एक ऊंची समतल जगह पर
बेठा किसी गहरे सोच में डूबा था ,
तभी एक सेवक नुमा साधक ने आकर
सूचना दी कि गुरुवर अभी विशेष तंत्र
साधना में है , इसलिए दो सप्ताह तक
उनका मिलना संभव नहीं है ! अभी
आप अपने कक्ष में जाकर विश्राम
करें ! मैं तुरन्त अपने कक्ष की और
चल पड़ा ! तीन चार छोटे – छोटे
द्वारों को पार करने के पश्चात मैं
जिस स्थान पर पंहुचा वह एक बड़ा
सा कमरा था ! ज़मीन पर लाल रंग की
मोटी कालीन बिछी हुई थी और
सामने सिंहासन नुमा लकड़ी का एक
तख़्त था , साथ ही दो छोटी – छोटी
कुर्सियां भी थीं ! उस रात एक
विचित्र अनुभूति हुई मेरी आत्मा को !
कुछ कह नहीं सकता कैसी विचित्र
अनुभूति थी ! तन्द्रिल अवस्था थी
संभवत: ? और उसी अवस्था में मैंने
देखा एक अति सुन्दर नव युवती को !
उसका सारा शरीर स्फटिक की तरह
पारदर्शक और हीरे की तरह शुभ्र
था ! आँखे बड़ी – बड़ी और मोटी थीं ,
बिना काजल के काली ! उसकी दोनों
भोहों के मध्य से सुनहरी किरने
निकल रही थीं ! वह निर्विकार भाव
से मेरी और देख रही थी ! सहसा
बेहोशी सी छाने लगी मुझपर !
अचानक उसका महीन स्वर कक्ष के
शान्त वातावरण में गूंजा .................?
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #9  
Old 06-04-2017, 10:59 AM
lamboo lamboo is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 220,309
Default तान्त्रिक

Very interesting
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #10  
Old 06-04-2017, 10:59 AM
gabbar gabbar is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 219,179
Default तान्त्रिक

Aapko paas ya fail hone ki chinta nahi karni chaiye cobra bhai....kyoki aapki kahani jo naa padhe wo fail or jo padhe wo paas....seedha sa jawab...waiting for next
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
Reply

Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump


All times are GMT -4. The time now is 03:27 AM.


Powered by vBulletin® Version 3.8.3
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.

Masala Clips

Nude Indian Actress Masala Clips

Hot Masala Videos

Indian Hardcore xxx Adult Videos

Indian Masala Videos

Uncensored Mallu & Bollywood Sex

Indian Masala Sex Porn

Indian Sex Movies, Desi xxx Sex Videos

Disclaimer: HotMasalaBoard.com DOES NOT claim any responsibility to links to any pictures or videos posted by its members. HotMasalaBoard has a strict policy regarding posting copyrighted videos. If you believe that a member has posted a copyrighted picture / video, please contact Hotman super moderator. Members are also advised not to post any clandestinely shot material.