Hot Masala Board - Free Indian Sex Stories & Indian Sex Videos. Nude Indian Actresses Pictures, Masala Movies, Indian Masala Videos


Go Back   Hot Masala Board - Free Indian Sex Stories & Indian Sex Videos. Nude Indian Actresses Pictures, Masala Movies, Indian Masala Videos > Hindi Sex Stories - Free Indian Sex Stories in Hindi Fonts !!!

Reply
 
Thread Tools Display Modes
  #21  
Old 06-04-2017, 10:03 AM
kamina_pati kamina_pati is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 217,338
Default तान्त्रिक

सुप्रभात मित्रों !!!
प्रस्तुत है नई घटना ''भैरवी''
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #22  
Old 06-04-2017, 10:04 AM
aamjayadakha aamjayadakha is offline
Senior Member
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 276,832
Default तान्त्रिक

साथियों ! जिस्सी का कक्ष
में यूँ अचानक आना कोई रहस्य या
संशय की बात नहीं थी ! जिस्सी मठ
की मुख्य साधिका और सेविका थी !
तंत्र भैरवी मिन्ही की सहयोगी से
अधिक वह उसकी सखी थी ! तंत्र
भैरवी मिन्ही ने जैसे ही जिस्सी को
देखा तो मुस्कुरा कर उसका स्वागत
किया और बोली – जिस्सी भीतर आ
जाओ ! मैं तुम्हे ही याद कर रही थी !
मिन्ही की बात सुनकर जिस्सी भीतर
चली आयी और प्यार और शिकायत
भरे स्वर में बोली – मिन्ही क्यों मुंह
देखकर बात करती हो ? नहीं ऐसी
कोई बात नहीं है – मिन्ही बोली !
जिस्सी ने पूछा – तो बताओ भला
क्यों याद कर रही थीं मुझे ? जिस्सी
की बात सुनकर तंत्र भैरवी मिन्ही
पहले तो कुछ गंभीर हुई और फिर
बोली – जिस्सी वास्तव में , मैं
कुशोक को वो प्रेत लीला वाली घटना
तुम्हारे मुख से सुनवाना चाहती थी !
जिस्सी तुम तो जानती हो बड़ी ही
रोचक और अनुभव लेने वाली घटना
है ! जिस्सी ने पहले तो एक गहरा
सांस लिया और सांस छोड़ते हुए
बोली – कुशोक ! यह घटना आज से 9
– 10 वर्ष पहले की है ! उस समय
मेरा प्राय: मठ से बाहर आना जाना
लगा रहता था ! मैं एक बार मुम्बई में
थी ! वहां मुझे हमारे ही मठ का पुराना
साधक मिला ! मिन्ही क्या नाम था
उसका ? मिन्ही तपाक से बोली –
निताई तांत्रिक ! हाँ यही नाम था
उसका ! उसने मुझे बतलाया की
उसके एक परिचित हैं , किसी ने
उनको प्रेत दोष बतलाया है ! वह
बहुत दुखी और तनाव में हैं ! मैंने
उनकी परेशानी सुनकर आश्वासन दे
दिया कि जो बन पड़ेगा मैं उनसे
सहयोग करुँगी ! कुशोक ! उस घटना
को मैं आज तक भूल नहीं पायी हूँ !
जब भी उस घटना को याद करती हूँ
अनजाने भय से सिहर उठती हूँ !
कुशोक ! अब मैं वास्तविक घटना का
वर्णन करती हूँ ! ध्यानपूर्वक
सुनना !
वो अमावस की तूफानी बरसाती रात
थी ! धीरे – धीरे वो तूफानी रात गहरी
से और गहरी होती जा रही थी ! मुझे
मीठी नदी से काफी आगे जाना था !
मार्ग में , मैं , निताई तांत्रिक और वह
पीड़ित व्यक्ति था ! मन में अजीब –
अजीब विचार आ रहे थे , लेकिन क्या
करती जाना जो था ! हम शीघ्र
अतिशीघ्र मंजिल तक पंहुचना चाहते
थे ! तांत्रिक निताई मन ही मन कोई
मन्त्र बुदबुदाता चल रहा था ! कभी
कभी उस ठेठ शाबर मन्त्र के कुछ
अक्षर सुनाई दे जाते थे ! लेकिन
नियति को कुछ और ही मंज़ूर था ! देर
तो होनी ही थी और हुआ भी वही ! मैं
जानती थी की भूत – प्रेत बाधा
ग्रस्त या किसी भी अन्य दोष से
ग्रस्त परिवार की स्तिथि अत्यंत
गंभीर और जटिल होती है ! निताई ने
मुझे बतलाया था कि परिवार बहुत
अच्छा है ! वह लोग संपन्न भी हैं !
लेकिन इस समय उन लोगों में कोई
भी अच्छी स्थिती दिखलाई नहीं दे
रही थी ! अचानक मेरे अंतर्ज्ञान ने
चेतावनी दी की वापिस हो जाओ ,
कल प्रयत्न करना ! मैंने अपने
ह्रदय की आवाज़ को सुना और अब
और आगे जाने से स्पष्ट मना कर
दिया ! तांत्रिक निताई और वह
सज्जन बेतरह चोंक पड़े ! निताई ने
पूछा – क्या हुआ जिस्सी ? बस अब
आगे और नहीं – मैंने उत्तर दिया !
ठीक है जैसा तुम उचित समझो !
लेकिन यह तो बतला दो कि अब कब
पुन: प्रयास करोगी ? निताई यहाँ
नहीं ! निताई ने पूछा – तो फिर और
कहाँ ? बस कल हम सीधे कोलकत्ता
चल रहे हैं ! तारापीठ के दर्शन करने !
वहीँ कुछ करुँगी ! ठीक है – निताई ने
सहमती दे दी ! हम अगले ही दिन ट्रेन
द्वारा कोलकत्ता के लिए रवाना हो
गए ! तीन दिन की थका देने वाली
लम्बी और उबाऊ यात्रा के पश्चात
हम आखिर तारा पीठ पंहुच गए !
तारों के फीके प्रकाश में तारापीठ का
क्षेत्र चमक रहा था ! मैं हर समय
अपने साथ छोटी टोर्च रखती हूँ ,
लेकिन संयोग थे वह भी आज मेरे
पास नहीं थी ! उस समय बड़ी ही
मुश्किल से कलाई घडी को देखा !
अनुमान लगाया संभवत: रात के आठ
बज रहे थे ! विचार आया कि
कोलकत्ते में तो अभी शाम ही
प्रारम्भ हुई होगी लेकिन यहाँ तो
ऐसा लग रहा है जैसे रात काफी
निकल गयी है ! रात का मौत जैसा
सन्नाटा पसरा हुआ था ! मैं सोच रही
थी कि कब रात समाप्त होगी और मैं
बाज़ार में जाकर कुछ विशेष तांत्रिक
सामग्री लाकर इस प्रेत दोष को दूर
करुँगी ! रात निरंतर गहरी होती जा
रही थी ! मैंने तांत्रिक निताई से पूछा
– कब सुबह होगी और कब लोगों के
चेहरे देखने को मिलेंगे ? निताई ने
स्वीकृति में अपना सिर हिला दिया !
मैंने पुन: पूछा – निताई क्या यहाँ
कुछ खाने की और रहने की
व्यवस्था हो सकती है ? क्या इस
उजाड़ क्षेत्र में यह संभव है ? निताई
ने ना की मुद्रा में सिर हिला दिया !
ओह ! कहकर मैंने गहरी ठंडी सांस ली
और पास ही पड़े पत्थर पर बेठ गयी !
तभी पीछे से एक रहस्यमयी आवाज़
उभरती है उस गहन सन्नाटे को
चीरती हुई – कहिये बहनजी क्या
सोच रहीं हैं ? यही ना कहाँ आकर
फंस गयी ? मैं एक हलकी सी चीख के
साथ चोंक पड़ी या कहिये आतंकित
हो उठी ! अचानक उस अजनबी की
आवाज़ सुनकर मैं भीतर तक अनजाने
भय से काँप गयी ! कब ? कैसे ?
कौन ? ................
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #23  
Old 06-04-2017, 10:04 AM
kamina_pati kamina_pati is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 217,338
Default तान्त्रिक

Awesome update
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #24  
Old 06-04-2017, 10:04 AM
gabbar gabbar is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 217,148
Default तान्त्रिक

शमशान साधना
या शव साधना में तंत्रगुरु और तंत्र
भैरवी का सहयोग अनिवार्य है !
तंत्र भैरवी तारा निरंतर शमशान के
विषय में अपने ज्ञान और अनुभव के
आधार पर शमशान के रहस्य परत
दर परत खोलती जा रही थी ! तंत्र
भैरवी तारा आगे बतलाती है –
शमशान , मरघट को प्राय: भय और
हेय द्रष्टि से देखा जाता है ! यहाँ
लोग तभी आते हैं जब उनके किसी
परिजन या रिश्तेदार की म्रत्यु हो
जाती है ! शमशान को इतना भयानक
स्थान बना दिया गया है कि इसका
नाम लेना भी अशुभ माना जाता है !
सत्यता यह है कि यह स्थान मनुष्य
को जीवन के और समीप ले जाता है !
अगर सरल भाषा में कहें तो ये ही
स्थान जीने का उद्देश्य निश्चित
करने के लिए दिशा दिखलाते हैं ,
एकाग्र होने की प्रेरणा देते हैं !
शमशान के विषय में कहा जाता है ,
वहां भूत – प्रेत और अशान्त वायवी
शक्तियां होती हैं ! यह सर्वथा सत्य
है ! मृत्यु और पुनर्जन्म के मध्य का
समय ही अशान्त आत्माओं का होता
है ! हम दोनों तंत्र भैरवी तारा की
बातों को बड़े ही लगन से सुन रहे थे
और भरसक समझने का प्रयत्न भी
कर रहे थे ! तंत्र भैरवी तारा एक पल
के लिए रुकी , माथे पर झूल रही
आवारा लट को पीछे की और झटका ,
गले को साफ़ किया और फिर
धाराप्रवाह बोलना प्रारम्भ किया !
विश्व का सबसे शांतिमय , भयानक
और अनेक प्रकार की रोमांचक
कल्पनाओं से भर देने वाला अगर
कोई स्थान है , तो वह शमशान है !
यहाँ शव का अंतिम संस्कार उसके
सामजिक विधान द्वारा होता है !
अगर रात के गहरे सन्नाटे में अकेले
शमशान जाने के लिए किसी निडर
व्यक्ति को भी कहा जाये तो उसका
साहस भी जवाब दे जायेगा ! शमशान
में सिद्धि का मार्ग शीघ्र खुल जाता
है ! क्यों ? क्योंकि साधक का ,
मन्त्र जाप एकाग्रता से हो तो
अनुभव बन जाता है ! श्रद्धा ,
विश्वास और तनमयता से जाप हो
तो आभास बन जाता है और अगर
वही मन्त्र जाप तंत्रगुरु के
निर्देशानुसार और तंत्र भैरवी के
सहयोग से हो तो सिद्धि बन जाता
है ! मन्त्र भी वही है , साधक भी वही
है , स्थान भी वही है बस मार्गदर्शन
और समर्पण से भरे सहयोग का
अन्तर है ! हम तंत्र भैरवी तारा के
एक एक शब्द को ध्यानपूर्वक सुन
और समझ रहे थे ! अचानक भैरवी
तारा ने हमारी ओर जलती हुई नज़रों
से देखा और फिर बोलना प्रारम्भ
किया – रात में सांय – सांय करते ,
चिताओं के जलने से धधकते शमशान
में अकेले जाने का साहस कोई विरला
ही कर सकता है ! साधना के मार्ग में
शमशान की शक्ति का अपना महत्व
है ! इसी कारण किसी स्थान पर
गहरी शांति की तुलना शमशान से की
जाती है ! शमशान में उर्जा है ! उर्जा
की जनक तंत्र भैरवी है , इसलिए
इनको तंत्र का मूल आधार और
सफलता का सोपान माना गया है !
इसी कारण तंत्र मार्ग में शमशान
साधना का विधान प्रमुख है ! इसका
एकमात्र उद्देश्य साधक की
एकाग्रता , साहस और निर्भयता
का परिक्षण करना है ! जो साधक
ऐसे भयानक वातावरण मैं भी अपना
चित्त स्थिर करके मन्त्र जाप कर
सकता है वह अवश्य ही सिद्धि को
प्राप्त कर सकता है ! मैंने भैरवी तारा
से पूछा – क्या प्रत्येक स्त्री तंत्र
भैरवी बन सकती है ? नहीं ! बिलकुल
नहीं ! भैरवी तारा ने बलपूर्वक उत्तर
दिया ! मैंने पूछा – तो फिर कौन भैरवी
बनने के योग्य होती है ? इस पर मैं
आज चर्चा नहीं करुँगी , अवसर आने
दो भैरवी का पूरा रहस्य खोल कर
रख दूँगी ! भैरवी तारा ने फिर बोलना
प्रारम्भ किया – शमशान साधना
तांत्रिक , ओघढ़ और कापालिक वर्ग
द्वारा विशेष रूप से की जाती है !
तांत्रिक , ओघढ़ , कापालिक ,
मशानिक अधिकतर शमशान में ही
निवास करते हैं ! शमशान तो सभी
होते हैं , लेकिन उत्तम शमशान वह
माना गया है जिसका मार्ग दक्षिण
दिशा में हो ! बात करते – करते
अचानक तंत्र भैरवी तारा का मुख
दमक उठा ! उसके नेत्र पूरे खुल गए !
घने काले लम्बे बाल कंधे तक बिखर
गए ! हाथ एक विशेष तांत्रिक मुद्रा
में फ़ैल गए ! वह कुछ ओठों ही ओठों में
बुदबुदाने लगी ! भैरवी तारा का रूप
धीरे – धीरे भयानक होता जा रहा
था ! अचानक उसके गले से खरखराने
की ध्वनि निकली , वह बोली – आज
इस वीराने में मुझे अपने तंत्रगुरु के
साथ बीती एक घटना याद आ गयी !
उसे याद करते ही मेरा पूरा शरीर
कांपने लगा ! मुझे ऐसा अनुभव होने
लगा , जैसे मैं अब भी अपने तंत्रगुरु
के साथ शमशान में शव साधना कर
रही हूँ ! मेरे तंत्र गुरु शव के आसन पर
भद्रासन लगाकर मौन आँखें मूँदकर ,
शांत भाव से बेठे हैं ! मुझे आज भी
याद है , वो कृषणपक्ष की चतुर्दशी
की मध्य रात्रि थी ! चारों और
घनघोर अंधकार फैला था ! पवन
किसी नयी विधवा हुई स्त्री की तरह
इधर – उधर निरउद्देश्य भाग रही
थी ! उस धधकते हुए शमशान में
तंत्रगुरु एक सुलगती हुई चिता के
सन्मुख बेठे थे ! ऐसा अनुभव हो रहा
था कि जैसे वो चिरसमाधी में बेठे हों !
इसके साथ ही तंत्रगुरु चारों दिशाओं
में ..................
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #25  
Old 06-04-2017, 10:04 AM
aamjayadakha aamjayadakha is offline
Senior Member
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 276,832
Default तान्त्रिक

मित्रों ! वह महीन आवाज़ मुझे भीतर
तक आंदोलित कर गयी ! मुझे उस
ध्वनि को सुनकर ऐसा अनुभव हुआ
जैसे इस मधुर ध्वनि को मैं पहले भी
कहीं , कभी सुन चूका हूँ ! मैंने खोज
भरी नज़र उठाकर सामने देखा तो मेरे
सामने मिन्ही खड़ी थी ! मैं आश्चर्य
में भर गया और मेरे मुहं से अनायास
ही निकल गया – मिन्ही तुम
यहाँ ? .... मैं अपनी बात आगे बढ़ाने
से पहले कुछ महत्वपूर्ण चर्चा
आपसे कर लेना चाहता हूँ ! वैदिक
धर्म और संस्कृति के समान
तांत्रिकों का भी धर्म और संस्कृति
है ! तंत्र – मन्त्र साधना अत्यंत
गुप्त , श्रमसाध्य और रहस्यमय
है ! वह एकमात्र शक्ति साधना है !
तंत्र का भीतरी रूप पूर्णतया साधना
और ज्ञान पर आधारित है ! अगर
आपके पास तंत्र ज्ञान नहीं है तो
तंत्र साधना , सिद्धि और साधना
का अनुभव स्वपन के समान ही
रहेगा ! तांत्रिक साधना के अनेक
मार्ग हैं ! वह सारे मार्ग सिद्धि की
और जाते हैं ! इन मार्गों में से एक
मार्ग भैरवी साधना की संकरी
गलियों में से होकर निकलता है !
वाममार्गी साधकों की इष्ट विपरीत
रति काली होती है ! वह लाल या काले
वस्त्र धारण करते हैं ! लम्बे केश
रखते हैं ! ललाट पर कामिया सिन्दूर
का तिलक करते हैं ! मैंने अनेक
साधकों को त्रिपुंड लगाते और मोटे –
मोटे रुद्राक्षों की माला धारण करते
भी देखा है ! वह अपनी साधना प्राय:
पंचमकार से करते हैं ! उनके तांत्रिक
अनुष्ठान में खारक की बलि अवश्य
दी जाती है ! यह मेरा सौभाग्य नहीं
तो फिर और क्या था कि मेरी भेंट
एक बार फिर तंत्र भैरवी मिन्ही से हो
गयी ! यह भी सत्य है कि मेरी यह
प्रसन्नता शीघ्र ही दम तोड़ गयी !
यह ठीक है तेजपुर और उस
रहस्यमयी घाटी में जाने का एक लाभ
यह हुआ कि अनायास मेरी भेंट
साधिका भैरवी से हो गयी ! मैंने एक
बार मिन्ही की और देखा और फिर
अपनी नज़र पहाड़ की चोटियों की
तरफ घुमा दी ! खुले आसमान को
चुनोती देती मीलों तक फैले उन्नत
पहाड़ की चोटियाँ बड़े ही गर्व से
खड़ी थीं , मानो कह रही हों , है कोई
हमें विजित करने वाला ? क्षितिज के
ओर – छोर तक फैला हुआ दुर्गम
हिमाछिदित दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र ,
जिसे देखकर ही ह्रदय में भय की
अनुभूति होती थी ! सामने मीलों तक
फैली हुई समतल हिम घाटी और
उसके बर्फ से ढकी धवल चोटियाँ ,
जिनके पीछे था शुभ्र नीला आकाश !
बड़ा ही दिल मोह लेने वाला दृश्य
था ! काफी बड़ा आश्रम था वह !
लम्बे – चौढ़े विस्तृत आँगन के चारों
और छोटे – छोटे साधना कक्ष और
मध्य में काफी ऊंची संगमरमर से
बनी लगभग 10 फुट लंबी एक भैरवी
की भव्य प्रतिमा स्थापित थी ! वह
प्रतिमा संभवत: किसी तांत्रिक
सहायिका की भव्य मूर्ती थी ! वह
प्रतिमा जितनी सुन्दर और भव्य थी
उतनी ही आकर्षक भी थी ! उस
प्रतिमा का मुख किसी अप्सरा जैसा
था ! उसके दो हाथ थे एक हाथ में
पुष्प और दुसरे हाथ में धनुष बाण
था ! कंठ में मोतियों की माला थी , जो
काफी नीचे तक चली आई थी !
प्रतिमा का एक पैर नग्न पुरुष के
वक्ष स्थल पर रखा था , और दूसरा
पैर योगिनी के वक्ष पर रखा था !
आश्रम के भीतर सांय – सांय हो रहा
था ! एक अजीब सी उदासी और
खिन्नता भरी थी आश्रम के
वातावरण में ! मैं मिन्ही को देखकर
थोडा प्रफ्फुलित हुआ ! मुझे उस
म्लान , निस्तब्ध साफ़ – सुथरे
आँगन में मिन्ही को पाकर कुछ आशा
का संचार हुआ ! मिन्ही लाल रंग का
परिधान पहिने थी ! पेरों में खड़ाऊँ
और गले में मोटे – मोटे रुद्राक्षों की
माला , ललाट पर लाल सिन्दूर का
गोल टीका लगा था ! अब वह धीरे –
धीरे मेरी और बढ़ रही थी ! अब क्या
होगा ? बुरी तरह मैं असमंजस में फंस
गया था ! मिन्ही तो यह सोच चुकी
थी की मैं वापिस अपने घर चला गया
हूँ ! मैं उसकी आँखों में अनेक प्रश्न
तेरते हुए स्पष्ट देख रहा था !
जैसे ही मिन्ही मेरे समीप आई कि
अचानक नगाड़े की कान फाड़ू ध्वनि
ने मुझे चोंका दिया ! मैंने और मिन्ही ने
उस और देखा तो एक सजी हुई
रत्नजडित पालकी भीतर आश्रम में
आ रही थी , जिस पर झालर लगा
रेशमी पर्दा पड़ा हुआ था ! मैंने सोचा
– कौन होगा इस रत्नजडित
मूल्यवान पालकी में ? फिर सोचा
होगा कोई आश्रम का मुखिया या
कोई तंत्रगुरु ? मगर यह क्या / दूसरे
ही पल मेरा भ्रम चकनाचूर हो गया !
प्रतिमा के समक्ष लाकर पालकी
ज़मीन पर रख दी गयी ! उसके
पश्चात् ....... हे तंत्र शक्ति ! यह
क्या दिखला रही हो मुझे ? साथियों !
तंत्र के पावन क्षेत्र में आने के बाद
साधक को किसी न किसी रूप में तंत्र
भैरवी का सहयोग लेना ही पड़ता है !
यह तंत्र की एक प्राचीन परम्परा
है ! कोई भी साधक इसका उलंघन
कर ही नहीं सकता , क्योंकि तंत्र
भैरवी तंत्र शक्ति का ही एक रूप
होती है ! मेरी यह बात आप सदैव
स्मरण रखें तंत्र की सम्पूर्ण
क्रिया कल्पना शक्ति पर ही
आधारित होती है ! जो सच्चे साधक
हैं और कुतर्क से दूर हैं वह जानते हैं
कि तंत्र मार्ग में प्रवेश के पूर्व तंत्र
ज्ञान लेना होता है और निरंतर
कठोर साधना करनी होती है ! इसके
उपरांत ही साधक तंत्र के रहस्यों
को जानने का अवसर पाता है ! तंत्र
भैरवी के विषय में समाज की आज जो
धारणा है , वह सत्यता से बहुत दूर
है ! उसे और अधिक बतलाने की कोई
आवश्यकता नहीं है ! आपको इस
बात को स्मरण रखना होगा – एक
भैरवी वह होती है जो आपकी
सहायता साधना में करती है दूसरी
वह भैरवी होती हैं , जो
आकाशचारिणी होती हैं! यह तीन
प्रकार की होती हैं ! खेर ! रत्नजड़ित
पालकी का रेशमी पर्दा हटा और
.....................?
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #26  
Old 06-04-2017, 10:06 AM
gabbar gabbar is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 217,148
Default तान्त्रिक

पल भर रूककर मिन्ही ने फिर कहना
प्रारम्भ किया , तांत्रिक साधना
बड़ी ही जटिल साधना है ! तांत्रिक
साधना का अर्थ है – शक्ति
साधना ! एक ऐसी शक्ति की साधना
जिसे कुण्डलिनी शक्ति का जागरण
और षट्चक्र भेदन तांत्रिक साधना
का मुख्य लक्ष्य है , लेकिन बिना
बिन्दु सिद्धि के कुण्डलिनी शक्ति
का जागरण और साधना में सफलता
सम्भव नहीं है ! प्राय: साधक
अज्ञानता के वशीभूत होकर सीधे
बिना शिक्षा और ज्ञान के साधना
के क्षेत्र में उतर जाते हैं ! इसके
परिणाम कभी कभी बड़े ही वीभत्स
होते हैं ! यह बिन्दु सिद्धि क्या है ?
मैंने आतुरता से पूछा ! बिन्दु किसे
कहते हैं ? पहले इसे समझ लो –
मिन्ही बोली ! वैसे तो इस शरीर में
पांच कोष हैं ! लेकिन साधारणत:
मनुष्य के तीन ही कोष हैं – मनोमय
कोष – प्राणमय कोष और अन्नमय
कोष ही सक्रिय रहते हैं शेष दो कोष
सुप्तावस्था में रहते हैं ! इन तीनो से
मिलकर जो शरीर बनता है , उसे
सूक्ष्म शरीर कहते हैं ! तीनो शरीर –
मनोमय शरीर , प्राणमय शरीर और
अन्नमय शरीर के बीज इन्ही तीनो
कोषों में विद्यमान रहते हैं ! मनोमय
शरीर का सारांश मन है ! प्राणमय
शरीर का सारांश ओजस है और
अन्नमय कोष का सारांश वीर्य या
शुक्र है ! तंत्र में कुशोक इसी का
नाम बिन्दु है ! बोद्ध साधक इसे
बोधिचित के नाम से संबोधित करते
हैं ! जब साधक के तीनो कोष चंचल
और अस्थिर रहते हैं तब तंत्र की गूढ़
साधनाओं में भैरवी का सहयोग
अपेक्षित होता है ! तंत्र भैरवी के
आभाव में साधना हो ही नहीं सकती है
, रही बात सफलता की वह भी
दिवास्वप्न ही रहेगी ! तंत्र भैरवी के
सहयोग से सर्वप्रथम बिन्दु पर
चित को एकाग्र करना पड़ता है , फिर
प्राण पर और अंत में मन पर !
आरोपण की जो प्रक्रिया है – वह
समाधी है ! जिस पर चर्चा फिर कभी
करुँगी ! कुशोक ! होता इसका एकदम
उलटा है ! साधक पहले मन को
एकाग्र करने का प्रयत्न करता है !
वह तो होता नहीं ! साधक चला जाता
है , प्राण पर ! गुरुजन भी तो यही
कहते हैं – साधक श्वास को साधो !
परिणाम साधक असफल हो जाता है !
कुशोक ! ओर सुनो – बिंदु साधना के
भी तीन चरण हैं – पहला चरण
योगिक है , जिसमे साधक योग का
सहारा लेता है , जो अत्यंत दुष्कर है !
अस्तु साधक तंत्र भैरवी का सहारा
लेता है ! दूसरे चरण में बिंदु की
प्रतिष्ठा होती है ! तीसरे क्रम में
बिन्दु का शोधन होता है ! बिन्दु के
अशुद्ध या पतित होने पर साधक
अधोगति की और उन्मुख होता है !
तुमने सुना भी होगा अमुक साधक
साधना करते हुए पागल हो गया
अथवा मृत्यु का ग्रास बन गया !
लेकिन तंत्र भैरवी के सहयोग और
मार्गदर्शन से अधोगति के बजाये
उधर्वगति की ओर उन्मुख होता है !
अधोगति का सीधा अर्थ पतन या
मृत्यु है ! तंत्र की बिन्दु साधना और
बोद्धों की रस साधना वास्तव में एक
ही बात है ! हीनयान मार्ग में
बौधिचित को वज्रमणि कहते हैं !
यहाँ आकर मिन्ही थोडा रुकी ! एक
गहरी सांस ली और फिर बोलना
प्रारम्भ किया – मरण बिन्दुपातेन
जीवनं बिन्दुधारणात – यह सिद्धांत
सर्वसम्मत है ! तांत्रिक साधना की
यही दिव्य अवस्था है ! कहा भी गया
है – स्त्री को धर्ममाचरेत इस बात
का भीतरी तात्पर्य यही है !
ओपनिषद साधन भूमि में पंचाग्नि का
नाम प्रसिद्ध है ! वास्तव में उसका
अर्थ रस साक्षात्कार के
अतिरिक्त और कुछ भी नहीं है ! मैं
सोच रहा था – मिन्ही इतना ज्ञान
रखती है ! ऐसा तो मैंने कभी सोचा भी
नहीं था ! मेरे लिए यह ज्ञान अद्भुत
था . अकल्पनीय था ! मिन्ही पुन:
बोली – वास्तव में तंत्र योग काम
योग ही है ! तंत्र मार्ग में सहायिका ,
मार्गदर्शक का स्थान तंत्र भैरवी ने
ले लिया है ! साधना की गोपनीयता
की द्रष्टि से एक भैरवी दीक्षा भी है
, लेकिन तंत्रगुरु यह दीक्षा शिक्षा
पूर्ण होने पर ही देता है ! मैं स्वयं को
धीरे – धीरे तंत्र के महासागर में
उतरता अनुभव कर रहा था ! मठ में
अब सन्नाटा छा गया था ! रात का
अँधेरा धीरे – धीरे मठ को अपनी गोद
में समेटता जा रहा था ! किसी और
कक्ष में लगा घंटा जोर जोर से टन –
टन बजने लगा था ! मिन्ही एक
अंगड़ाई लेकर उठ गयी और
..........
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #27  
Old 06-04-2017, 10:06 AM
lamboo lamboo is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,176
Default तान्त्रिक

शमशान के
वीभत्स वातावरण में पागल हवा
इधर से उधर दौड़ रही थी ! शमशान में
घूमते आवारा कुत्ते भी संभवत: किसी
स्वादिष्ट भोज की आशा में हमारे
इधर उधर आकर बेठ गए थे ! एक तो
वहां का वातावरण वैसे ही भयानक
था ऊपर से अमावस की मध्य रात्री
, पास में ही खड़े पीपल की कोमल
डालियाँ लचक – लचक कर , हवा के
साथ टकराकर भयानक वातावरण
का निर्माण कर रहीं थीं ! मेरे तंत्रगुरु
इन सबसे बेफिक्र अपनी शमशान
साधना में लीन थे ! मैं बेतरह चोकन्नी
और सावधान की मुद्रा में बैठी थी ! मैं
इसलिए सावधान नहीं थी कि तनिक
भी खतरे का आभास होते ही मैं भाग
जाऊ , बल्कि इसलिए की कोई
खतरा आये उससे पहले उसे भांप कर
मैं तंत्रगुरु की सुरक्षा कर सकूँ ! मैं
तंत्रगुरु की भैरवी थी , उनकी
सहयोगिनी और सेविका ! मैं इस
सत्य से परिचित थी कि तंत्र भैरवी
गुरु की कृपा का प्रसाद होती है !
तांत्रिक के साथ भैरवी कब नहीं
थी ? तांत्रिक का आकर्षण ही भैरवी
से होता है ! तंत्र ग्रंथों और तंत्र
गुरुओं ने बार – बार कहा है – तंत्र
भैरवी के बिना कोई भी तामसिक
साधना पूर्ण नहीं होती है ! तंत्र
भैरवी और तांत्रिक एक शरीर और
दो जान होते हैं ! मैं इस शिक्षा से
भली भांति परिचित थी ! मैं तंत्र गुरु
के पास सावधान की मुद्रा में बैठी
थी ! अचानक शमशान की मुंडेर पर
बेठा उल्लू जोर से चीख उठा ! उल्लू
की कर्कश आवाज़ को सुनकर मैं
समझ गयी की अब भटकती अशान्त
आत्माओं का आना प्रारम्भ हो चुका
है और वह किसी भी क्षण तंत्रगुरु के
लिए कोई भी दुविधा उत्पन्न कर
सकती हैं ! मैंने अपनी खोजपूर्ण
द्रष्टि चारों दिशाओं में डाली ! अभी
तक सब कुछ सामान्य था ! मैं इस
बात को भी जानती थी कि शमशान
साधक को सिद्धि के और भी समीप
ले जाते हैं सरल भाषा में कहें तो यह
साधक को जीने का और साधना का
उद्देश्य निश्चित करते हैं !
मेरे तंत्रगुरु का चिता के सन्मुख
बेठकर मन्त्र जाप चालू था ! वह
मन्त्र जाप के साथ ही चारों दिशाओं
में काली सरसों के दाने भी फेंकते जा
रहे थे ! मन्त्र पढ़ते पढ़ते वह देसी
मदिरा की धारा भी चिता में छोड़ते जा
रहे थे ! मध्यरात्री का समय निकल
चुका था ! चिता के धधकने से चटचट
की भयानक ध्वनि वातावरण को
और भी भयानक बना रही थो ! थोड़ी
देर में उल्लू फिर चीखा उस की
कर्कश ध्वनि वातावरण को और भी
भयानक बना रही थी ! मैंने देखा चिता
के आस – पास कोई सफ़ेद पारदर्शी
छाया हवा में तेर रही थी , परन्तु इन
सबसे बेखबर तंत्रगुरु अपने मन्त्र
जाप में संलगन थे ! अचानक चिता की
अग्नि में कुछ हलचल सी अनुभव हुई
लपटें और भी तेज़ी से लपलपाने
लगीं ! ऐसा अनुभव हुआ जैसे धधकती
चिता में कोई है ! तंत्रगुरु ने एक
बोत्तल मदिरा उठाकर पुन: चिता में
मन्त्र जपते हुए छोड़ी ! इसके साथ
ही चमेली के सफ़ेद फूल , लोहबान ,
गूगल , छाड़छबीला , भूतकेशी की जड़
, देसी कपूर और मजमुहे की सुगंध
धधकती चिता पर छोड़ दी ! उल्लू
एक बार फिर पूरी शक्ति से चीखा ,
उल्लू की कर्कश आवाज़ दूर दूर तक
फ़ैल गयी ! सियार के रोने की बेसुरी
आवाज़ से वातावरण कुछ अजीब सा
हो गया ! अद्रश्य सफ़ेद परछाईयाँ
ऐसा लगा मानो नृत्य कर रही हों !
चिता से हूँ हूँ हूँ की आवाज़ हुई ! इसके
साथ ही एक भयानक आवाज़ से
चिता की सुलगती लकड़ियाँ इधर –
उधर दूर दूर तक बिखर गयीं और मौत
की गोद में सोया शमशान जाग गया !
दूर कहीं कुत्ता बेतरह रोने लगा ! यह
तंत्रगुरु के लिए सफलता के क्षण
थे ! उनकी शमशान साधना पूर्ण जो
हो गयी थी ! हम दोनों दिल को थाम
कर तंत्र भैरवी तारा की अनुभव पर
आधारित कथा सुन रहे थे ! हम
रोमांचित होने के साथ आश्चर्य
चकित भी थे ! होते भी क्यों नहीं यह
हमारे जीवन की सर्वाधिक रोमांचित
कर देंने वाली तंत्र कथा जो थी ! तंत्र
भैरवी तारा ने तंत्रगुरु को प्रणाम
किया , लेकिन अपनी शमशान
साधना में लीन तंत्रगुरु ने कोई उत्तर
नहीं दिया !
क्यों जगाया मुझे ? एक अस्पष्ट सी
गुर्राहट शमशान के शान्त वातावरण
में गूंजी ! मेरी साधना में कोई विघ्न
उत्पन्न ना हो ! तुम्हे मेरी सुरक्षा के
साथ इस बात का भी ध्यान रखना है
- निर्भीक तंत्रगुरु बोले ! जो आज्ञा
– कहकर वह आकाश की ओर उठता
चला गया ! इसके उपरांत तंत्र गुरु
आसन पर एक बार फिर भद्रासन
लगा कर बैठ गए ! तंत्रगुरु का मुख
दक्षिण दिशा की ओर था ! उन्होंने
एक बार फिर तांत्रिक मन्त्रों का
उच्चअरण प्रारम्भ किया – ॐ ह्रीं
ह्रीं फट स्वाहा ! इसके उपरांत
शमशान के कुँए जल हाथ में लेकर
मन्त्र पूरा कर जल प्रथ्वी पर छोड़
दिया ! इसके पश्चात कुछ अन्य
आवश्यक क्रियाएं पूरी कर तंत्रगुरु
ने हाथ में पलाश के पुष्प उठाकर
शमशान भूमि में एक ओर बड़ी ही
श्रद्धा से चड़ा दिए ! इसके बाद
मनसोपचार से पीठ पूजा प्रारम्भ
कर दी ! मैंने मन्त्र का केवल अंतिम
अक्षर ही सुना , वह था – ॐ
रतिकामाँभयाम ! तंत्रगुरु ने हाथ में
पुष्प , अक्षत और चिता की राख
लेकर पूर्व आदि आठों दिशाओं का
विधिवत पूजन किया और अपने
आसन से उठ गए ! तंत्र भैरवी तारा
बोली – अब यह कहने की
आवश्यकता नहीं , इस घटना को
बीते 20 वर्ष होब गए , तब से लेकर
आज तक जब भी मैं इस घटना का
स्मरण करती हूँ तब ...
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #28  
Old 06-04-2017, 10:06 AM
lamboo lamboo is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,176
Default तान्त्रिक

मित्र, आपकी इच्छानुसार इस बार एक लम्बी कहानी पोस्ट करने का प्रयत्न कर रहा हूँ, आशा है पसन्द आएगी !!
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #29  
Old 06-04-2017, 10:07 AM
lamboo lamboo is offline
Senior Member
 
Join Date: Jan 2012
Posts: 218,176
Default तान्त्रिक

KARNAME TO SHURU KIJYE JANAAB


ROCHAK HOGA
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
  #30  
Old 06-04-2017, 10:07 AM
goldfish goldfish is offline
Senior Member
 
Join Date: Dec 2007
Posts: 277,419
Default तान्त्रिक

साथियों ! मैं बेतरह परेशान हो गया !
दाताराम के लिए मेरे ह्रदय में बड़ा
स्नेह और सम्मान था ! वह अत्यंत
मेधावी , विवेकशील साधक था !
उसमे और मुझमे बस यही अंतर था
कि वह ‘ वाममार्गी ‘ ( अघोरी ) हो
गया था और मैं सात्विक ( गृहस्थ )
तंत्र में रूचि रखने लगा था !
एक अज्ञात भय से मैं काँप गया !
लौटना तो मुझे सचमुच था , पर
दाताराम की भयंकर योजना को भांप
लेने के कारण मेरा मन वापस जाने के
लिए नहीं कर रहा था ! दाताराम को
पता ना चले अगर किसी प्रकार मैं
उसकी सहायता कर गया तो अच्छा
ही होगा ! अघोरी दाताराम तो इस
भ्रम में रहेगा कि मैं वापस दिल्ली
चला गया ! उसे प्रसन्नता भी हुई
होगी ! मुझसे न तो वह बतला सकता
है और न ही कोई परामर्श ही ले
सकता है क्योंकि उसे पता है , मैं इस
प्रकार की साधना का जमकर विरोध
करूँगा !
इस प्रकार की अनेतिक , तामसिक
क्रियाओं में , मैं विश्वास नहीं रखता
और न रखना चाहता था ! तंत्र
अलोकिक है पर केवल लैकिक सीमा
तक रखना ही उचित है ! अलोकिक
सीमा पार कर लेने वाले भला कौन से
तांत्रिक आज जीवित हैं ? बाबा
कीनाराम हों या महामहोपाध्याय
गोपीनाथ कविराज या माँ आनंदमयी
अथवा परमहंस भागवत जी स्थूल
शरीर का बिलगाव जीवन की
अनिवार्य क्रिया है , इसे अगर
सरल शब्दों में कहा जाए तो मृत्यु
अनिवार्य है , अगर यह न हो तो
जन्म ही न हो , जन्म है तो मृत्यु है ,
तब ही जन्म है ! हिमालय से ही तो
गंगा का अस्तित्व है ! मृत्यु है तो
जीवन है ! तभी तो इस संसार को ‘
मृत्युलोक ‘ कहा गया है ! दाताराम
पक्का ओघढ़ है ! कुछ कर गुजरने की
भावना के कारण वह न जाने कब से
लगा है और संभवत: अब कुछ करके
ही रहेगा ! और अगर चूक गया तब
........... ? मैंने रुक जाना ही उचित
समझा !
परिचित मित्र के निवास पर आकर
मैंने अति सूक्ष्म अंकगणना प्रारम्भ
की ! ध्यान लगाया ! मैं बेतरह चोंक
गया ! शव साधना के लिए यह
अनुपयुक्त ( अशुभ ) समय था ! तंत्र
विद्या में ग्रहों , नक्षत्रों की
स्थिति का अपना विशेष महत्त्व है !
ब्रह्माण्ड की स्थिति में उर्जा और
विकिरण पर मानसिक शक्तियों को
और उर्जा प्रदान करता है ! अघोरी
दाताराम ने बड़ा ही अशुभ समय चुना
है !
ध्यान मुद्रा में जाकर मुझे ज्ञान हो
गया कि अघोरी दाताराम किस समय
अपनी निकृष्ट वाममार्गी क्रिया
प्रारम्भ कर सकता है ? उसी के
अनुसार मैं एकदम सतर्क हो गया !
मित्र के यहाँ मेरे रहने की व्यवस्था
कुछ इस प्रकार से की गयी थी कि मैं
कभी भी आ जा सकता था और
उसका अनायास किसी को पता न
लग सकता था , पूर्व परिचित मित्र
मेरे स्वाभाव और कार्य से परिचित
होने के कारण इस प्रकार की
गोपनीय व्यवस्था प्राय: कर दिया
करता था ! मैं चुपचाप पड़ा छत की
ओर निहारता रहा !
समय हो गया तो मैं चुपके से शमशान
की ओर चल पड़ा ! सर्वत्र एकदम
गहरा सन्नाटा पसरा था ! नगर
खामोश हो चुका था ! महाशमशान में
इतनी शान्ति थी कि सुई गिरने की भी
आवाज़ भी सुनाई पड़ जाए ! तेज़ी से
धधक रही एक चिता और उसकी
उठती – गिरती लपटों के प्रकाश में
अघोरी दाताराम पर नज़र गयी !
निर्वसना भैरवी सामने खड़ी थी !
उसकी गुलाबी देह चिता की लपटों के
प्रकाश में दूधिया हीरे के सामान
चमक रही थी ! एक अज्ञात भय की
कल्पना से मैं भीतर तक कांप गया !
निर्वसना भैरवी के घने काले केश
पीठ पर बेतरतीब छितराए हुए थे !
उसके उन्नत उरोज़ शिवाले के कलश
के सामान सर उठाये खड़े थे ! मुग्ध
होकर मैं ...........................???
??...............साथियों ! शमशान का
रहस्य अभी बाक़ी है ............
Reply With Quote
Sponsored Links
CLICK HERE TO DOWNLOAD INDIAN MASALA VIDEOS n MASALA CLIPS
Sponsored Links - Indian Masala Movies
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
UKBL ~ 10 Second Banner Rotator

"Uncensored Indian Masala Movies" - The hottest Indian Sex Movies and Mallu Masala clips

Check out beautiful Indian actress in sexy and even TOPLESS poses

Indian XXX Movies!

Widest range of Indian Adult Movies of shy, authentic Desi women.....FULLY NUDE DESI MASALA VIDEOS!!! Click here to visit now!!!

 

UKBL ~ 10 Second Banner Rotator
Sponsored Links
Reply

Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump


All times are GMT -4. The time now is 03:07 PM.


Powered by vBulletin® Version 3.8.3
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.

Masala Clips

Nude Indian Actress Masala Clips

Hot Masala Videos

Indian Hardcore xxx Adult Videos

Indian Masala Videos

Uncensored Mallu & Bollywood Sex

Indian Masala Sex Porn

Indian Sex Movies, Desi xxx Sex Videos

Disclaimer: HotMasalaBoard.com DOES NOT claim any responsibility to links to any pictures or videos posted by its members. HotMasalaBoard has a strict policy regarding posting copyrighted videos. If you believe that a member has posted a copyrighted picture / video, please contact Hotman super moderator. Members are also advised not to post any clandestinely shot material.